Notice: unserialize(): Error at offset 0 of 162 bytes in /home/pitarakart/storage/modification/catalog/controller/startup/startup.php on line 52Notice: unserialize(): Error at offset 0 of 162 bytes in /home/pitarakart/storage/modification/catalog/controller/startup/startup.php on line 151Warning: Cannot modify header information - headers already sent by (output started at /home/pitarakart/public_html/system/framework.php:42) in /home/pitarakart/storage/modification/catalog/controller/startup/startup.php on line 267Warning: Cannot modify header information - headers already sent by (output started at /home/pitarakart/public_html/system/framework.php:42) in /home/pitarakart/storage/modification/catalog/controller/startup/startup.php on line 325Notice: Undefined variable: data in /home/pitarakart/public_html/vqmod/vqcache/vq2-_home_pitarakart_storage_modification_catalog_model_catalog_product.php on line 446 Divaswapn
Cart
Divaswapn

Divaswapn

  • Name: दिवास्वप्न
  • Publisher/Group: National Book Trust (NBT)
  • Product Code: 9788123708317
  • Author: Gijubhai Badheka
  • Translator: Kashinath Trivedi
  • ISBN-13: 978-81-237-0831-7
  • Binding: Paperback
  • No. Of Pages: 90
  • Language: Hindi
  • PublishingDate: 1991
  • Indian Edition only
  • Availability: Out Of Stock
  • $ 0.00

     
  • Ex Tax: $ 0.00

यह एक ऐसे शिक्षक की काल्पनिक कथा है, जो शिक्षा की दकियानूसी संस्कृति को नहीं स्वीकारता और परम्परा व पाठ्यपुस्तकों की सचेत अवहेलना करके बच्चों के प्रति सरस और प्रयोगशील बना रहता है। उसके प्रयोगों की सैद्धांतिक पृष्ठभूमि मोंटेसरी में है, पर तैयारी और क्रियान्वयन ठेठ देसी है। इस किताब को पढ़ते-पढ़ते मन बेरंग, धूल-धूसरित प्राथमिक शालाओं की उदासी को भेदकर उल्लास और जिज्ञासा की झलक में बह जाता है और उस समय का चित्र बनाने में लग जाता है। जब देश के लाखों स्कूलों में कैद पड़ी प्रतिभा बह निकलेगी और बच्चे अपने शिक्षक के साथ स्कूल के गिर्द फैली दुनिया का जायज़ा आनंदपूर्वक कक्षा में बैठकर ले सकेंगे।

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good
Captcha